ACSorferforinquiryonmigrationfrowd

Khabar with cover द्वारा पब्लिश की गई खबर का बड़ा असर हुआ है। हाल ही में पलायन आयोग के नाम से ग्राम प्रधानों के साथ किए गए फर्जीवाड़ा को लेकर (KWC) में खबर प्रकाशित की थी जिसके बाद अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार ने ग्राम विकास विभाग को इस संबंध में कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

पढ़े ? बड़ा फर्जीवाड़ा : उत्तराखंड पलायन आयोग के नाम पर, प्रदेश भर के प्रधानों से लूटी जा रही है रकम, आयोग छिपा रहा है जानकारी।

आपको बता दें कि कुछ तथाकथित लोगों द्वारा व्हाट्सएप पर ग्रुप बनाकर कई जिलों के ग्राम प्रधानों को एक फर्जी सरकारी योजना के संबंध में लाभ लेने के लिए फर्जी तरीके से लूटा जा रहा था जिसमें पलायन आयोग के नाम पर फर्जी आईकार्ड और पलायन आयोग के अधिकारियों के नाम का इस्तेमाल किया जा रहा था। जिसके बाद पाया गया कि पलायन आयोग में कुछ लोग इन नामों से संबंध रखते हैं लेकिन आयोग द्वारा इसकी जानकारी छिपाई गई जिसके बाद यह मामला शासन के संज्ञान में लाया और उसके बाद बड़ी कार्रवाई हुई है। ACS मनीषा पंवार ने इस सम्बंध में ग्राम विकास आयुक्त IAS वंदना को जांच करने के निर्देश दिए जिस पर ग्राम विकास विभाग द्वारा पलायन आयोग के सदस्य सचिव को पत्र लिख कर इस सम्बंध में जल्द से जल्द जवाब मांगा गया है।

laterformigrationcommission5253289627326203669.

ACS मनीषा पंवार के निर्देशों पर ग्राम विकास आयुक्त IAS वंदना द्वारा पलायन आयोग से मांगे गए इस जवाब पर पलायन आयोग के सदस्य सचिव ने बताया कि इस सम्बंध में उत्तरकाशी और टेहरी के जिला विकास अधिकारियों द्वारा आख्या स्पष्ठ करने का कयह गया है जो कि कुछ ही दिनों में आ जायेगी साथ ही व्हाट्सएप पर भेजे गए बैंक अकाउंट की भी जांच की जा रही है। कुछ पुख्ता तथ्य जुटाने के बाद इस मामले में एफआरआई भी दर्ज करवाई जाएगी और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी।